Wednesday, 11 January 2012

देखें...

कुछ 'पल' ठहर जाएँ, 
                             ज़रा  हम रुक जाएँ 
देखें यादों से मिलना होता है क्या ...?

बेसुध हवाओं  से,
                      कहीं वो झोंके आयें 
देखें फिर रूहों का जागना होता है क्या..?

 चलो साज छेडें,
                      के ज़र्रे गुनगुनाएं 
देखें फिर गीत होता है क्या ..?

मोम की तह में ,
                      वो बाती जलायें 
देखें फिर अक्स पिघलता है क्या..?

सोते दरख्तों की,
                       टहनियों को हिलाएं 
देखें वक़्त बदलता है क्या..?

6 Comments:

At 11 January 2012 at 09:32 , Blogger देव कुमार झा said...

चलिए देखते हैं.....
वैसे कविता बहुत अच्छी है....

 
At 11 January 2012 at 11:35 , Blogger Atul Shrivastava said...

देखें क्‍या क्‍या होता है.....
उम्‍मीदों पर ही दुनिया कायम है।
सुंदर रचना।

 
At 11 January 2012 at 20:50 , Blogger RITU said...

धन्यवाद..!

 
At 11 January 2012 at 20:50 , Blogger RITU said...

धन्यवाद..!

 
At 13 January 2012 at 07:04 , Blogger S.N SHUKLA said...

सुन्दर , अति सुन्दर , आभार.

कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधार कर स्नेह प्रदान करें.

 
At 26 January 2012 at 07:18 , Blogger Rajesh Modi said...

log badle na badle... hum badal jaye ... dekhe badale jane ka ahesas hota hai kya ????

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home