Monday, 13 February 2012

मैं थोड़ी व्यस्त हूँ ..

मैं थोड़ी व्यस्त हूँ ..
पर आपके समक्ष हूँ 
समय मिलते ही कुछ लिखूंगी 
इसके लिए हरदम आश्वस्त हूँ ..
चाँद लम्हों में दिन बीत रहे 
जाने हम हारे या जीत रहे 
परिणामों की परवाह छोडें
कर्तव्यों का पालन कर रहे 
इनसब के बीच 
मैं एकदम चुस्त हूँ 
बैर भाव से मुक्त हूँ 
ज़िन्दगी तुझ संग मैं हंसूंगी 
इसके लिए पूर्ण आश्वस्त हूँ 
मैं बस थोड़ी व्यस्त हूँ ...
:)
 

12 comments:

  1. वाह ...बहुत खूब ।

    ReplyDelete
  2. यह व्यस्तता ही तो जीवन है...बहुत सार्थक सोच लिये सुंदर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  3. चुस्त,दुरुस्त ,मस्त और व्यस्त रहें ...
    शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  4. bas yahi chahiye..samay samay par likhna....sundar

    ReplyDelete
  5. vyasttaa kaa
    bahaanaa naa banaao
    aise hee likhte raho
    phir bhee kahte raho
    main vyast thee

    ReplyDelete
  6. निश्चय ही बहुत बढिया।

    ReplyDelete
  7. जीवन व्यस्त रहे तो इससे अच्छी बात कुछ भी नहीं ... गहरे भाव लिए ...

    ReplyDelete