Thursday, 3 May 2012

ये मन न पछताए ..







देख एक सुन्दर बाला को 


मेरा मन हुआ कुछ ऐसा 

काश ! इतनी लम्बी खूबसूरत 

हम भी होते , लम्बी नाक रूप बेशुमार 

से कुछ हमको भी नक़्शे होते.
.
पहुंची जो नज़र उनके हाथों पे 

कुछ इस तरह हमे मिला सुकून ,

ऐ खुदा ,मेरे भगवन ,तुने सबको जैसा बनाया 

उसी से खुश हैं हम ,

शायद उनके हाथों के निशा 

बन जाते हमारे भी गम ..

कर कृपा इतनी ,अपने में दंभ न आये 

फिर कभी किसी को देख के 

ये मन न पछताए ..


(चित्र गूगल से )

23 comments:

  1. शायद उनके हाथों के निशा
    बन जाते हमारे भी गम

    सुन्दर |
    बधाई ||

    ReplyDelete
  2. जो प्यार करते हैं उनकी आँखों में देखो खुद को
    गुरुर होगा खुद पर
    कहानियों की परियां खुद में मिल जाएँगी

    ReplyDelete
  3. कर कृपा इतनी ,अपने में दंभ न आये
    फिर कभी किसी को देख के
    ये मन न पछताए ..

    बहुत सुंदर सार्थक अभिव्यक्ति // बेहतरीन रचना //

    MY RECENT POST ....काव्यान्जलि ....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    ReplyDelete
  4. बहुत दिया देने वाले ने तुझको .......???
    खुश रहें !

    एक अपील ...सिर्फ एक बार ?

    ReplyDelete
  5. achhi or santosh ki bhavna se paripoorna post .bdhai

    ReplyDelete
  6. जो मिले उसमे खुश रहने मे ही समझदारी होती है

    ReplyDelete
  7. प्रवाहमयी...बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    आपकी प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर लगाई गई है!
    चर्चा मंच सजा दिया, देख लीजिए आप।
    टिप्पणियों से किसी को, देना मत सन्ताप।।
    मित्रभाव से सभी को, देना सही सुझाव।
    उद्गारों के साथ में, अंकित करना भाव।।

    ReplyDelete
  9. jo dikhayi deta hai jaruri nahi ki vo hi satyam,shivam,sundram ho.

    apne ko jitna mila usi se santushti ho iske liye bhagwan se prarthna karni chaahiye.

    rashmi prabha ji se sehmat.

    ReplyDelete
  10. बनाने वाले तूने कमी ना की,
    किसको क्या मिला मु्‌द्‌दर की बात है।

    ReplyDelete
  11. जो है उसी में खुश रहना अच्छा है ...

    ReplyDelete
  12. सुंदर बाला हमें तो अब कहीं भी नहीं दिखाई देती
    एक दिखी थी कभी अब बाकी उसी में समाई रहती ।

    ReplyDelete
  13. खुबसूरत अल्फाजों में पिरोये जज़्बात....

    ReplyDelete
  14. सारगर्भित रचना ....
    बहुत सुंदरता से भाव पिरोये ....!!
    शुभकामनायें .....!!

    ReplyDelete
  15. किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता, जो है अपने पास उसी पर गर्व करना... प्रेरक भाव, बधाई.

    ReplyDelete
  16. kahate hai bhagwan ne do hath do pair sahi salmat die hai...
    or kya chahiye..
    yatharth ko roopdiya hai apne..
    gahan bhav liye behtarin rachana....

    ReplyDelete
  17. रितु जी,
    पूर्व में हुई चर्चा के अनुसार आपके ब्लॉग से कुछ लेख को अपने दैनिक समचार पत्र भास्कर भूमि में प्रकाशित किया है। अखबार का प्रतियां आप तक भेजना चाहते है। आप अपने घर की पता भेजने की कृपा करे.......bhaskar.bhumi.rjn@gmail.com

    भास्कर भूमि का ई पेपर देखें......www.bhaskarbhumi.com

    ReplyDelete
  18. अच्छा चित्रण किया है आप ने...सुन्दर प्रस्तुति... बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  19. अच्छा चित्रण किया है आप ने...सुन्दर प्रस्तुति... बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  20. bahut khubsurat rachna..aapka blog bahut prashanshniy hai.
    mere blog me aapka swagat hai.

    ReplyDelete
  21. बहुत सारगार्भित अभिव्यक्ति...बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  22. वाह जी बल्‍ले बल्‍ले

    ReplyDelete
  23. देख पराई चूपडी मत ललचावे जीव ।

    ReplyDelete