Tuesday, 17 January 2012

शब्द बोलते हैं..

कोरे कागज़ पे आज ,सिमटी जैसे रात ;
के शब्द बोलते हैं ...
गहरे हैं जज़्बात ,जो लिखदी ऐसी बात ;
के शब्द बोलते हैं ...
कुछ उत्तर कुछ प्रतुत्तर ,कुछ खाली हालात ;
के शब्द बोलते हैं..
कुछ मन की आवाज़ ,कुछ मेरी तेरी बात ;
के शब्द बोलते हैं ..
कुछ अमृतवाणी ,कुछ गीतों की सौगात ;
के शब्द बोलते हैं ..
कुछ छेड़खानी ,कुछ अश्कों की बरसात ;
के शब्द बोलते हैं ..
कुछ रंजोगम की जुबानी ,कुछ हंसी मुलाक़ात
के शब्द बोलते हैं ..
कुछ मैंने मन में ठानी ,हुई शब्दों से मुलाक़ात
के शब्द बोलते हैं...:)

15 Comments:

At 17 January 2012 at 22:18 , Blogger संजय भास्कर said...

बेहतरीन बेहतरीन बेहतरीन
क्या कहे शब्द नही है तारीफ के लिए ..

 
At 17 January 2012 at 22:29 , Blogger रश्मि प्रभा... said...

शब्द ... बोलकर , ना बोलकर भी बोलते हैं

 
At 17 January 2012 at 23:51 , Blogger सदा said...

कुछ मैंने मन में ठानी ,हुई शब्दों से मुलाक़ात
के शब्द बोलते हैं...:)
बिल्‍कुल ...

 
At 18 January 2012 at 02:06 , Blogger RITU said...

भास्कर जी ,तहे दिल से आभार..

 
At 18 January 2012 at 02:39 , Blogger मनीष सिंह निराला said...

बेहतरीन लयबध प्रस्तुति !

 
At 18 January 2012 at 03:12 , Blogger कुश्वंश said...

कुछ मन की आवाज़ ,कुछ मेरी तेरी बात ;
के शब्द बोलते हैं ..

बेहतरीन शब्द

 
At 18 January 2012 at 04:31 , Blogger नीरज गोस्वामी said...

कुछ छेड़खानी ,कुछ अश्कों की बरसात ;
के शब्द बोलते हैं ..

वाह...बेजोड़ रचना...बधाई

नीरज

 
At 18 January 2012 at 06:39 , Blogger अमित श्रीवास्तव said...

उत्कृष्ट ...

 
At 18 January 2012 at 09:17 , Blogger sangita said...

शब्द नही है तारीफ के लिए ..

 
At 18 January 2012 at 09:49 , Blogger RITU said...

आप सभी ने तारीफ कर ओत -प्रोत कर दिया है..मैं शुक्रगुज़ार हूँ..

 
At 18 January 2012 at 10:06 , Blogger अनुपमा पाठक said...

वाह!!!

 
At 18 January 2012 at 10:16 , Blogger ब्लॉग बुलेटिन said...

इस पोस्ट के लिए आपका बहुत बहुत आभार - आपकी पोस्ट को शामिल किया गया है 'ब्लॉग बुलेटिन' पर - पधारें - और डालें एक नज़र - अंजुरि में कुछ कतरों को सहेज़ा है …………ब्लॉग बुलेटिन

 
At 18 January 2012 at 20:09 , Blogger रेखा श्रीवास्तव said...

bahut sundar likha, shabnd hi to bolate hain tabhi unake prabahv se hansi aur aansoon donon hi bikharte hain.

 
At 18 January 2012 at 21:38 , Blogger Atul Shrivastava said...

वाह!!!
शब्‍द सच में बोलते हैं...
गहरे भाव।
सुंदर रचना।

 
At 26 January 2012 at 07:02 , Blogger Rajesh Modi said...

Very touchy lines..

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home