Friday, 18 January 2013

तन्हाई ..


आप सब के कहने से एक बार फिर लिख रही हूँ अपने ब्लॉग पर ..जिस किसी मित्र को पसंद आये और वो शेयर करना चाहे ,उनसे विनती है की रचियता को उसके अधिकार से वंचित न करें ..उसकी कृति उसका परिश्रम है ..उसका सम्मान कर कृपया एक बार उसकी आज्ञा ज़रूर  लें ..
..धन्यवाद।।

कानो में आके कुछ कह गयी तन्हाई ..
क्यूँ उस  की याद आई क्यूँ उस  की याद आई ..
बिन बोले ज्यूँ  सब कुछ यूँ  दे गया हो   सुनाई 
बिना बात ख़्वाबों के ताने बाने बुन आई ..
शाम ढलने को है ...फिर उसकी याद सताई ..
मद्धम सी रौशनी में क्यूँ  वो दे रहा दिखाई 
बावरी पवन के झोंके सी  ..रात अधूरी खिल आई 
मन के धरातल पर पूरी पड़ी  वो रंगत वो परछाई ..
रंगीनियत  रूह की ..कभी तन की भीनी अंगडाई 
बेबाक अधरों  पर पंखुड़ी सी  सुर्ख लालिमा उभरायी 
हया के नूर से जब बेचैनी मुस्कुराई ..
हज़ार रंग बन कर रात खिलखिलाई इठलाई ..
                                                      ( चित्र गूगल के सौजन्य से  )

12 Comments:

At 18 January 2013 at 09:00 , Blogger धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बहुत खूब सुंदर प्रस्तुति,,,

recent post : बस्तर-बाला,,,

 
At 18 January 2013 at 09:15 , Blogger sushma 'आहुति' said...

behtreen rachna...

 
At 18 January 2013 at 09:55 , Blogger expression said...

बहुत सुन्दर रचना....
बड़े दिनों बाद आपको पढना अच्छा लगा.

अनु

 
At 18 January 2013 at 22:18 , Blogger RITU said...

धन्यवाद अनु ..आप लोगों ने ही प्रोत्साहित किया ..
आभार

 
At 18 January 2013 at 23:34 , Blogger रविकर said...

बढ़िया प्रस्तुति |
शुभकामनायें आदरेया ||

 
At 19 January 2013 at 00:21 , Blogger दिगम्बर नासवा said...

बिन बोले ज्यूँ सब कुछ यूँ दे गया हो सुनाई
बिना बात ख़्वाबों के ताने बाने बुन आई ..

ये उनके प्रेम का असर है जो अनायास ही आता है ... मस्त कर जाता है ...

 
At 19 January 2013 at 07:16 , Blogger शिवनाथ कुमार said...

मद्धम सी रौशनी में क्यूँ वो दे रहा दिखाई
बावरी पवन के झोंके सी ..रात अधूरी खिल आई

कभी कभी तन्हाई भी कितनी अच्छी लगती है ,,,
सुन्दर भावाभिव्यक्ति ,,,

 
At 19 January 2013 at 07:56 , Blogger रविकर said...

अति-सुन्दर
लिखना बंद ना करें-
सृजन होता रहे-
सादर ||

 
At 19 January 2013 at 07:57 , Blogger Anju (Anu) Chaudhary said...

बहुत खूब

 
At 20 January 2013 at 00:52 , Blogger Anita said...

भावभरी मीठी सी कविता..आभार !

 
At 11 April 2013 at 07:04 , Blogger Vinay Prajapati said...

नव संवत्सर की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ!!

 
At 22 May 2014 at 22:58 , Blogger Priyank Shah said...

Nice blog!!!
But no updates for some time now...

 

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home