Thursday, 3 November 2016

......करते थे ....!!





एक घूँट ज़रा पी ले वो चाशनी जैसा घोल...
 जो भरा है इश्क भरे उन लम्हों से , 
जिन्हें फुर्सत भरे पलों में हम गुनगुनाया करते थे ..
बेख़ौफ़ गुज़रते हुए वक्त को हथेलियों में रख कर अंजुली  बना कर पी जाया करते थे ...
सुनहरी धूप  के तिलस्मी आगोश को ,
शुष्क सरसराती हवाओं के साथ चिलमन बना कर..
 ओढ़ ले जाया करते थे....
 शबनमी रातों को ,मुकम्मल तराशी हुई चाहतों से बने पलों को ..
देख कर इतराया करते थे ...
वो हज्जूम हो गया है खयालातों का ,जिन को सलाइयों में पिरो कर ....
बना  लिया करते थे ..एक लिहाफ सा  ,सो जाया करते थे... ...
बातचीतों के दौर में ,सिर्फ सुनते सुनते ही ,कब खो जाया करते थे ...
मुअस्सर हो वो दिन ,के चली आये खुद ही ,ज़िन्दगी ...
जिसे खुद ही ,कहीं छोड़ आया करते थे ...
मालूम नहीं कब जागे ,उन सपनों से ,जिन्हें देखने हम कोने तक जाया करते थे ...

(चित्र गूगल से साभार )



Wednesday, 2 November 2016

तुम वो नहीं




तुम वो नहीं जो तुम हो ,
तुम वो हो जो दिख रहे हो 
तुम खुद भी न समझ पाओगे क्या हो 
न समझा पाओगे की क्या हो ,
पर बन जाओगे वो जो दिख रहे हो तुम ..

तुम्हारी रहमत हो या खुदगर्ज़ी
तुम्हारे अंदाज़े हो या तुम्हारी मर्ज़ी ,
खुद को  फिक्रज़दा ही पाओगे 
क्यूंकि ,जो तुम हो वो न दिख पाओगे 

करते रहो चाहे प्यार ,या करते रहो इंतज़ार 
तुम से मिलेंगे वही लोग बार बार ,
जिनसे तुम खुल न पाओगे 
तुम नहीं दिख सकोगे वो 
जो तुम दिखना चाहोगे 
लाख करो कोशिशें 
तुम वो हो जो दूसरों को  दिख जाओगे 

(चित्र गूगल से आभार )

Tuesday, 1 November 2016

मैं शीशा हूँ

                                      



ता उम्र कोशिशें करते रहे की शीशा बन सकें 
जो अन्दर से हैं वो बाहर भी दिख सकें 
पर दिख न सका वो अक्स जो धूप था 
बादलों की आगोश में जो एक तेज़ था 
करते रहे मुहब्बत हम तो हमी से 
सीखे न कोई गुर ,इस तकदीर से 
कोई दोस्त न मिला मुकम्मल हमें  
पाया  सिफर ही बस इम्तेहान में 
क्यों रोज़ देनी हैं खुद को ही तसल्लियाँ 
क्यों छा जाती हैं दिलों पर बदलियाँ 
पहचानते क्यों नही की में शीशा हूँ ,
तराशा गया हूँ में ,के मैं शीशा हूँ 
बढ़ाकर के नूर एकदिन हो जाऊँगा कोहिनूर,
तब हमदर्द बनकर आओगे राहों में ज़रूर 
पढता ही रहूँगा फिर भी अपना ही अक्स मैं 
दीखता ही रहुंगा ,मुझी में से मैं ..
खा खा कर ठोकरे हो जाऊं चकनाचूर 
दीखता ही रहूँगा हर एक कांच से भी नूर 
क्यूंकि तराशा गया हूँ मैं 
पर मैं एक शीशा हूँ ....

  ( चित्र गूगल से साभार)

Thursday, 3 March 2016

हो न हो ...








मेरी ख्वाहिशें मेरी तसल्लियाँ 
बे मतलब की ये हिचकियाँ 
कभी सोचते हैं हो न हो 
कभी सोचते हैं के हो न हो ..

मंझदार सी ये सिसकियाँ 
मौजों से दूर ये किश्तियाँ 
कभी सोचते हैं हो न हो 
कभी सोचते हैं के हो न हो ..


वहां दूर कहीं मेरी बस्तियां 
रंगरेलियां और मस्तियाँ 
कभी सोचते हैं हो न हो 
कभी सोचते हैं के हो न हो ..

बेमतलब की वो गलतियां 
छूटी हथेलियों से तितलियाँ 
कभी सोचते हैं हो न हो 
कभी सोचते हैं के हो न हो ..

Wednesday, 16 December 2015

यूँ तुम से बिछड़ कर हम ....




(चित्र गूगल से साभार )

यूँ तुम से बिछड़ के हम रह नहीं पाते हैं 
कैसे कहें कुछ कह नहीं पाते हैं ..
ये उम्र यूँ ही कट रही है ..
कुछ है जो हम सह नहीं पाते हैं 
यूँ तुम से बिछड़ कर हम रह नहीं पाते हैं ..

अनजाना सा लगता ये शेहर है ..
अनजाने से लगते सब नाते हैं ..
हम मन ही मन में घबराते हैं 
यूँ तुम से बिछड़ के हम रह नहीं पाते हैं 

न सोचा था तुमने .न सोचा था हमने 
कैसे बने हैं  बंधन कैसे नाते हैं ..
न रातें कटती हैं ..न दिन काटे जाते हैं 
यूँ तुमसे बिछड़ के हम रह नहीं पाते हैं ..

कभी कुछ कहना होता है तुमसे  ,
कभी  कभी की कुछ ऐसी बातें हैं
जो न खुदी सुनते हैं न सुना पाते हैं 
यूँ तुमसे बिछड़ कर हम रह नहीं पाते हैं  



Tuesday, 8 December 2015

जोड़ ....



टुकड़े टुकड़े बिखरे फर्श पर पड़ी ज़िन्दगी की हर एक परछाई ..बस जोड़ कर बन जाएगी एक छवि ,मनचाही ..ऐसे ही अंकित होगी एक उम्र ,जो गुज़र जायेगी उस संगीन राज़ को अंजाम देते देते ,जिसमे मखमली नाज़ुक पलों का जोड़ घटाव है और कभी उन कठोर क्षणों का कत्ल !
तहखाने में रखे प्यार को हर उम्र छु कर जायेगी पर उसे बेड़ियों से आज़ाद करने में वर्ष लग जायेंगे..और फिर आज़ादी मिलेगी भी तो कब...जब वो बूढा हो गया होगा..झुर्रियां होंगी उसके हाथों पर और स्नेह से गले लगाने पर उसके पुराने कपड़ो से गंध आएगी..
जिस्म हर पल अधेड़ हो रहा है ,पर मन अभी भी चंचल ,गिनतियों से बेखबर ..हौले से अपने उद्गार छलका ही देता है ..
आओ जोडें उन फर्श पर पड़े ज़िन्दगी की परछाइयों के टुकड़ों को ..बनाने एक सुन्दर ,अभूतपूर्व जिंदगानी ..
जिसमे हर वो मनचाहा पल हो ..और हो प्यार..बेड़ियों  से आज़ाद..!!!
(चित्र गूगल से साभार )